कोरोनाकाल में दुकान कैसे चलाएँ

कोरोनाकाल में दुकान कैसे चलाएँ

कोरोनाकाल में दुकान कैसे चलाएँ

कोरोनाकाल में दुकान कैसे चलाएँ

नमस्कार दोस्तों,

कोरोना वायरस के कारण दुकान धंधा चौपट हो गया है. अब दुकान खोलने में भी डर लगता है की कहीं हमें वहां पर इन्फेक्शन ना हो जाए.

इस पोस्ट में हम आपको बताएंगें की कोरोना से बच कर आप अपनी दुकान कैसे चला सकते हैं?

corona hindi


1. कोई और दूकान में नहीं आएगा

अब भैया पहली सावधानी यह लेनी है कि कभी किसी को दुकान के अंदर नहीं आने देना है. कोरोना बंद जगहों पर ज्यादा तेजी से फैलता है. बाहर हवा में बूंदें उड़ कर दूर चली जाती है तो आप तक आसानी से नहीं पहुंचती हैं. पर दुकान के अंदर ग्राहक के नाक से निकली हुई बूंदें वहीं रह जाएंगी और कुछ समय में आपके पास पहुंच सकती हैं.

मैं मानता हूं कि कई दुकानों में ग्राहकों को अंदर जाना ही पड़ता है तो उन लोगों को और अधिक सावधानी बरतनी होगी जो कि नीचे बताई गई हैं. ऐसी दूकान में एक समय में १ या दो ग्राहकों को ही अंदर आने दें।  

2. अपने ग्राहकों से कहें की फेस मास्क ठीक से पहने

मास्क नाक के नीचे नहीं होना चाहिए और मास्क से संबंधित सारी जानकारियां और सावधानियां पढ़ने के लिए यहां पर क्लिक करें. यह जानकारी आप अपने ग्राहकों को भी भेजिए ताकि वो जब आपके यहां आए, तब भी ये गलतिया ना करें. अगर कोई ग्राहक बिना मास्क पहने आता है तो उसको बाहर खड़ा रखिए और उससे सामान पूछ लीजिए जो भी समान है वह निकाल दीजिए. 

Best face mask

3. दुकान को हवादार बनाए रखें 

अगर दो दरवाजे हो या एक्स्ट्रा खिड़की है तो उसको खोल कर रखें और हो सके तो पीछे वाले तरफ आप एक ऐसा पंखा लगाएं जो पीछे तरफ से हवा आगे की तरफ छोड़ें मतलब आपकी हवा ग्राहक की तरह होते हुए बाहर निकल जाएं ना कि  ग्राहक के मुंह से निकली हुई हवा आपकी दूकान में आए. 

अगर आपके पास दो या ज्यादा शटर वाली दुकान है तो एक साइड के शटर से अंदर आना बंद कर दीजिए. वहां शटर खिल कर पंखा लगा दीजिए जहां से हवा अंदर आए और यह पूरी हवा दुकान मे घूम कर दूसरे वाले शटर से बाहर जाएगी जहां से कस्टमर आएगा भी और जाएगा भी. पर ज्यादा कोशिश यही करिए की ग्राहक अंदर ना ही आए.

4. अपने और ग्राहक के बीच एक प्लास्टिक शीट लगाएं

अधिकतर दुकानों  को हवादार बनाना संभव नहीं होता है तो ऐसे हालात में सामने एक प्लास्टिक की शीट लगाएं जिससे आप ग्राहक से बात करेंगे.

5. ऑनलाइन पेमेंट ले

सतह से संक्रमण होने के चांसेस कम है पर हैं इसलिए हो सके तो नोट या सिक्कों का आदान-प्रदान ना करें. ऑनलाइन पेमेंट सबसे अच्छा तरीका है अपना पेटीएम, गूगल पे, फोन पे आदि का यूपीआई कोड बनवा लें और दुकान के सामने चिपका दें और ग्राहकों से कहें कि उसके द्वारा पेमेंट करें.

आपको ऐप्स का खतरा लगता होगा पर यह बहुत ही सुरक्षित होते हैं जब तक आप सावधान रहते हैं. कभी भी कोई भी कंपनी आपको फोन करके आपको कोई ऑफर नहीं देती है और नहीं आपको पैसे भेजती है. तो अगर कभी भी आपको ऐसा फोन आता है या मैसेज आता है तो उस पर विश्वास मत कीजिए. आपको पैसे भेजने के लिए कोई आपकी परमिशन नहीं मांगता है. कोई आपकी परमिशन मांगता है तो जहां तक है वह फर्जी है उन चीजों पर विश्वास मत कीजिए.

ऑनलाइन पेमेंट नहीं ले पाते हैं तो कार्ड से पेमेंट लीजिए और कार्ड छूने के बाद हाथ sanitize कर लीजिए. और जब वह भी नहीं कर पाते  तो हो सके तो अकाउंट में लिख लीजिए. उनका खाता बनाइए लोगों से एडवांस में पैसे लीजिए और उसमें से हर बार काटते जाइए इसके लिए आजकल नए-नए ऐप जैसे खाताबुक आदि आ गए हैं जिनका आप उपयोग कर सकते हैं.

अगर इन सब के बावजूद आपको पैसे लेने पड़ते हैं तो नोट और सिक्के छूने के बाद अपने हाथ अच्छे से साफ़ कीजिए .

6. घर पर सामान डिलीवर करें 

देखो भैया लोग बाहर तो निकल नहीं रहे तो जो भी घर पर डिलीवरी करेगा उसकी तो चांदी हो जाएगी. इसलिए आप भी अगर फुटकर विक्रेता हो तो कोशिश करके लोगों के घरों में डिलीवरी देना चालू कर दीजिए. अमेजॉन, फ्लिपकार्ट जैसी कंपनीज भी छोटे शहरों में डिलीवर करने लगी है तो हो सके तो आप भी यहां पर ऐसा कुछ ज्वाइन कीजिए या अपना कोई व्हाट्सएप फेसबुक से स्टोर चालू कीजिए. और कुछ नहीं तो फोन पर या व्हाट्सएप पर आर्डर लेकर घरों में डिलीवर करना चालू कीजिए. आप उनको जल्दी डिलीवरी देंगे और सुरक्षित डिलीवरी देंगे जबकि बाकी मामलों में डिलीवरी ब्वॉय भी होगा जिससे इन्फेक्शन के चांस बढ़ जाते हैं. आप सामान पैक करते समय भी मास्क पहनिए. 

बाकी वेबसाइट से सामान आने में समय भी लगेगा पर आप जल्दी से पहुचा सकोगे. आप उनके पड़ोसी हो और उन्हें छोटा सा भी डिस्काउंट दे देंगे तो आपको बड़ी आसानी से बहुत आर्डर मिलेंगे. जितनी जल्दी आपने यह चालू किया उतना आपके लिए अच्छा है. 

हो सकता है आपको कोई नया हेल्पर रखना पड़े जो घर घर जाकर डिलीवर करे. अगर ठीक से चल पाड़ा तो उसके पैसे मुनाफे से निकल आएंगे. साथ ही मिनिमम लिमिट रख दीजिए. जैसे 200 से कम का सामान पास मे भी डिलीवर नहीं होगा. अगर घर दूर है तो 500 की लिमिट होगी. 

पैसे लेने के लिए ऑनलाइन पेमेंट ले सकते हैं. हो सके तो डिलीवरी करते समय बात न करें. क्योंकि यह मामला विश्वास का है तो हो सके तो ऐसे कस्टमर ही लीजिए जो विश्वास करने योग्य हो और जो आप पर विश्वास करें.

7.  लिस्ट ले कर सामान देना

अगर कोई कस्टमर लंबी लिस्ट लेकर आता है तो आप उसकी लिस्ट ले लीजिए उसको पढ़ कर बता दीजिए उनको बोलिए आधे, एक या दो घंटे के बाद आइए और सामान लेकर जाएं.

8.  दरवाजे पर सैनिटाइजर की बोतल रखिए 

इससे क्या होगा कि जो भी कोई कस्टमर आपके यहां आएगा तो पहले हाथ साफ करेगा और उसके हाथों से आपके सामान पर इन्फेक्शन नहीं फैलेगा.

9.  पब्लिक टॉयलेट का उपयोग ना करें

कोरोना वायरस टॉयलेट से भी फैलता है तो ऐसी जगहों पर जहां लोग सार्वजनिक रूप से शौचालय करते हैं वहां भी वायरस बहुत ज्यादा संख्या में होने की संभावना होती है तो कोशिश करके पूरा प्रयास करें कि पब्लिक टॉयलेट का उपयोग ना करें.

10. मास्क जरूरी है

अगर आपके हेल्पर या ग्राहक भी दुकान के अंदर आते हैं, तो आपको कभी भी मास्क नहीं उतरना है. उनके चले जाने के बाद भी बूंदे हवा मैं कई घंटे तक रहती हैं. इसलिए मास्क मत उतारना.

अगर दुकान के अंदर केवल आपके घर वाले आते हैं तो जब वहां और कोई भी नहीं हो तब आप मास्क उतार सकते हैं. पर उसे नीचे गले पर मत कीजिए और ना ही नाक के नीचे कीजिए. साफ़ हांथों से पट्टी पकड़ कर मास्क निकाल कर कहीं टांग दीजिए. और अगली बार वापस साफ़ हाथों से पहन लीजिए. 

11. अपने ग्राहकों को फिजिकल डिस्टेंस मेंटेन करवाइए

नहीं तो अंदर ना आने दीजिए. चाहिए बाहर हो या अंदर उनके ऊपर दबाव डालिए कि वह फिजिकल डिस्टेंस मेंटेन करें और मुँह और नाक कवर करें. यह आपके और उनके दोनों के साथ के लिए बहुत ही जरूरी है.

१२. समाचार की कटिंग दूकान के सामने लगा दीजिये

कई ग्राहक ऐसे होते हैं जो फेस कवर करना ही नहीं चाहते. इनको कोई ऐसा समाचार दिखाइए की कुछ दिन पहले इतने लोग मरे, या फिर जवान लोग भी इस बीमारी से मर रहे हैं।  शायद इनसे उनको कुछ अकल आए। जैसे की एक क्लिप निचे दी गई है, जब चुस्त दुरुस्त सेना वाले नहीं बच पा रहे हैं तो आम आदमी की क्या बखत है?


corona shop business

अगर इसके बाद भी कोई ग्राहक नहीं मानता है, तो मेरी सलाह है की ऐसे ग्राहक से अच्छा उसका न होना है. जितना आप उनसे कमाओगे, उससे ज़्यादा आपको इलाज में खर्च करना पड़ सकता है । अगर सब दुकानदार मिल कर ऐसे ग्राहकों को माना करेंगे तो झक मार कर उनको भी सुधारना पड़ेगा. याद रखिये, इस बीमारी से हम सब मिल कर ही लड़ सकते हैं. 


अभी के लिए इतना ही दोस्तों आशा करता हूं यह पोस्ट आपके लिए काम का था. यह अपने दोस्तों परिवार वालों और बाकी दुकानदारों के साथ शेयर कीजिए. उनको और खुद को भी कोरोना वायरस से बचाए. हो सके तो जितने ज्यादा हो, उतना ज्यादा सेफ्टी मेजर लीजिए. 

स्वस्थ रहिए, मस्त रहिए.

जै रामजी की

0 Response to "कोरोनाकाल में दुकान कैसे चलाएँ"

टिप्पणी पोस्ट करें

Ads Atas Artikel

Ads Center 1

Ads Center 2

Ads Center 3